Transcripts

SipSci Vocal Episode 2 : Transcripts

English Transcript

Hello and Welcome to SipSci Vocal… Kabhi Global, Kabhi Local… I am the host of this show Neha Tripathi… and this time I have brought this for you…

Different types of Laughter Audio 

Listening to these voices of laughter must have brought a smile on your face too… and if not, then bring a smile quickly because today’s episode will be only about laughter and happiness… So let’s start this conversation with these lines written by famous lyricist Sahir Ludhianvi ji… 

Gham aur khushi mein fark na mahsoos ho jahan… 

Main dil ko us mukam par lata chala gaya… 

Har fikr ko dhuein mein uda… 

Har fikr ko dhuein mein udata chala gaya… 

Very well said… Do you know the way to attain this in your life ? Guru Nanak ji has shown a path. Guru Nanak says – Hukum rajai chalna, nanak likhiya naal…

This sutra explains that flow with the stream of life… one should see the will of God in what is happening and one should agree with it… This sutra does not mean that whatever is happening, let it happen and you don’t do anything… This means don’t sit folded hands rather accept the results produced by all the efforts… even if they are not as per your expectations… You still try and find a consent for yourself in them… In simple words – His wish is my life…

Here I can even recall the Yaksha-Yudhisthir dialogue of Mahabharata. Yaksha asked – Who is the happiest ? Yudhishthira replied – He who is not indebted is happy. Now we are all indebted… How ? We all have to pay EMI… and EMI is also a kind of debt… So, are we not happy? Are we not blessed ? 

Audio Mimicry : 

Dialogue 1: Today I have building, property, bank balance, bungalow, car, parents, brothers and sisters, friends and relatives… what do you have?

Dialogue 2: I have happiness… but EMI is also there…

You must have heard this famous dialogue of the film Deewar… We have given it a little twist to it… The thing to understand here is that happiness depends on many factors and the level of happiness keeps on increasing and decreasing according to them…

When I mentioned this podcast of mine at home and wanted to know about happiness from my father, he gave me this mantra… 

First happiness is healthy body…

Second happiness is wealth and prosperity in the house.

Third happiness is good wife… 

Fourth happiness is an obedient son…

This is just one angle to define an ideal happy life…

Well… when I tried to search the internet about happiness… then I found different types of researches… According to one research, children are the happiest until they start going to school… Another research says people are happiest in their 60s… and according to some research, a person is the happiest at the age of 36 to 40 years. This is the period when you achieve a lot in your life… and while planning for your future even if you are not satisfied, you are not anxious…

In this case, a U shaped curve is also very popular… which shows that you are happy at the age of eighteen or earlier… then this happiness starts decreasing and as we age around 45-50, things keep getting better… But conditions apply… 

It is important to talk to psychologists here… so let’s talk to Dr. Manju Mehta, who has been a clinical psychologist at All India Institute of Medical Sciences… and Dr. Kamlesh Singh… who is Professor of Psychology in Humanities and Social Sciences Department of Indian Institute of Technology, IIT, Delhi… Both of them will help us understand the connection between happiness and age… How does the happiness of the heart differ from the happiness of the mind? And what is the scientific reason behind being happy? 

Neha Tripathi – Hello Dr. Manju, Welcome.

Dr. Manju – Thank you

Neha Tripathi – Hello Dr. Kamlesh, Welcome.

Dr. Kamlesh – Hello, thank you

Neha Tripathi – Today we are here to talk about happiness, so first of all you both are experts in psychology… You must have seen a lot of research and many cases. So, if you can tell about this to our audience. Dr. Manju, let’s start with you.

Dr. Manju Mehta – I say that happiness is very important in life. Because if there is no happiness, then people become depressed. People feel depression. Happiness means being happy and content with yourself in life. And after all think that whatever I am, I am good. 

Neha Tripathi – You are absolutely right. Kamlesh ji, how do you see this?

Dr. Kamlesh – When we talk about happiness, and with the help of the psychological research that has been done on this subject, we divide it into three parts, then it is well understood. Those foreign scholars, positive emotions, you have complete control over the environment you are in, you are completely free to do whatever you want to do and are able to do it, there are many such factors which bring happiness. When we talk about the culture of Asia, there we think more about our inner feelings. Like a soft mind… What peace do we have? Is there harmony in our thoughts, feelings and behaviour? I value those things more. If you talk about absolutely Indian, then to be blissful, to be engrossed in oneself, we can call it happiness.

Neha Tripathi – Dr. Manju, if I want to understand from you, which age do you consider the happiest according to your experience?

Dr. Manju Mehta – According to my experience, now-a-days children have depression. At first it was not believed that children could have depression. Earlier it was believed that children are very happy. If you can do everything, you remain very happy. The time before going to school is great. But nowadays we see that they are also very upset. Sometimes there is a problem with eating. Never get the love of parents. Sometimes they don’t get the attention they want. So these are all things. Even at the age of 36 to 42, many people are happy and many people are not happy. The same is true in old age. The most important thing is the individual thoughts of a person. If you are happy and everything is going very well, then your thoughts are the most important thing. They tell whether you are happy or not.

Neha Tripathi – Absolutely, if I ask you what was the happiest period of your life?

Dr Manju Mehta – When you achieve something in life, there is happiness. So I think the time between 55 and 60 years was the best time in my life. 

Neha Tripathi – Dr. Kamlesh How do you see, at what age people are happiest? And you have also done various types of research on this subject, so what does your research say and what do you think personally?

Dr. Kamlesh – Look Neha, like Dr. Manju also said now that you have your own characteristics, on which a lot depends. But despite this and that’s why if you test different people at the same age, then everyone will have different levels of happiness. Even if their circumstances are somewhat similar. Still it is interesting to understand at what age you are happiest. I ask this question in my class also. And children often say that when we used to play with fun. When there was no burden on us. That period was the best. Talking about the research on this issue, in research that came from other places and we have also compared early adolescence and children crossing adolescence in our three-four research. 13-15 year old and 16 to 18 year olds children are compared. And we found that the happiness is decreasing with increasing age. The reason for this seems to me that as they get older, they are getting more stress, more stressful things are coming into life, so may be it is so. Then when we did research on college students, it was found that the level of happiness which was there in the first year started falling and then they could not get that level. So here we think maybe the tension is slowly building up. When we talk about the whole life, as you said it is less in comparison to the age of forty to fifty years. We call it U or Dip, for this we use this term – middle life dip. And there they say age forty-fifty was less happy, and in the beginning we were happier and later on we become happy again because you don’t have too many things to do and you are meeting less stress in your life. But when you gave the subject of discussion and I was studying about it, I want to refer to a research by Dr. Mehta, and he said that the age around 36 is the happiest. And people have given reasons for this. Like he told that this is the phase where you have resolved everything. This is the period where there is some harmony in your life. Here your friends are also the ones who want what you want. And you’re starting to get a little more discreet. So at the last stage, when we say that happiness is more measured at the age of sixty-seventy, that is also the reason why you have learned to solve the problems of your life. And you are more prudent now.

Dr. Manju Mehta – I want to say one thing that as the age increases, if you are around seventy years, then diseases also come with it and pain also increases with it, then where will happiness come from. And a lot of people are still afraid that what will happen tomorrow? What disease will come tomorrow? Will they still be alive or not?

Neha Tripathi – Dr. Manju, if you see from the point of view of science, if you can tell us that like hormonal changes also have a role in your happiness, if we talk about age, then what other hormones have any relationship with age? 

Dr. Manju Mehta – Dopamine hormone is very important. We will be happy only when it is released. As we have a center in our brain of rewarded punishment. So there is an effect of dopamine on that too. And how does this release happen, like if you exercise, you feel happy in small tasks, you don’t think that you have to complete your tasks as a routine, rather express happiness in it.

Neha Tripathi – Gender also has anything to do with being happy, do you see anything to do with being happy?

Dr Kamlesh – It is the same for a person as there are different studies about age, different things happen, the same is for gender. You can easily see conflicting results. But who gives more attention to which issue, it remains a little factor for happiness. Like socio-political factors for men, and for women, there are more marriage-related or family-related issues. Safety is a big issue, when we did research on girls, safety was a big issue. 

Neha Tripathi – Absolutely, it is very important to have a balance of all these things, only then you will be able to be happy. In the end, I would like both of you to share some tips… because it is said that if you are happy with your heart, you feel good and happy. So how to keep this whimsical mind happy, Dr. Manju if you can give us some tips. 

Dr. Manju Mehta – You were talking about gender, so women are very sensitive. So the first tip is to be cool, ignore the small things, only then you will get happiness. And the other thing is change your thoughts. And the third thing is to involve yourself in some activities, so that you feel that you are doing something.

Neha Tripathi – Dr. Kamlesh, what do you think about how to keep the wandering mind happy?

Dr Kamlesh – I totally agree with Dr Manju. And along with it like yoga, meditation… which in itself is the biggest thing in a way, it should be there, because you need physical exercise in every age.

Neha Tripathi – Many thanks to both of you for joining the show and giving us information. Thank you very much, Dr. Manju, Dr. Kamlesh… Thank you both…

Dr. Kamlesh – Thanks

Dr. Manju Mehta – Thanks

Along with age, there are many other factors that are considered… and when happiness is talked about keeping many factors in mind, the World Happiness Report is compiled… In this list of 149 countries, Finland is the world’s happiest country… and India stands at 139…

Talking about Asia, Bhutan is number 1 in the list of happy countries. Bhutan’s life expectancy is 72 years. This is the first country to show concerns about Gross Happiness Product just like Gross Domestic Product… It was even concerned about that the matter should not only be economic, but non-economic subjects should also be given equal importance… 

Although there are many ways to measure happiness, but one easy way is the Cantril Ladder… This is a device that makes a ladder, justifying its name, on which numbers from 0 to 10 are mentioned… 0 being the least and 10 being the highest… Then the people involved in the research have to give numbers in answer to the question… and this helps us to judge the condition of happiness in our life… in the country… in the world… 

Let us tell you about a special report made with the help of this cantril ladder… This report is made in India and its name is India Happiness Report 2020… Here research has been done on five important factors related to happiness… one of which is age… This is a first of its kind effort… and the team is led by Prof. Rajesh K. Pillania… Let us know from him what the report says about the connection between age and happiness? 

Neha Tripathi – Hello Professor Pillania, Welcome…

Prof. Pillania – Hello, Thank you

Neha Tripathi – In India Happiness Report 2020, if we want to understand that if there is some kind of factor in this or if it can be known that at what age a person is the happiest in his/her life?

Prof. Pillania – Age was a factor in our study. What we found in this study was that teenagers were happier and those who were over forty were happier. So happiness was increasing with age. But college going students and working people were not so happy. It was directly related to Covid because due to the situation, work was being affected. The survey was conducted between July and September last year.

Neha Tripathi – Yes, some people were losing their jobs. Some people were not happy working from home. So it can be in this sense too, but how is this happiness measured? What is the method of measurement? How you have done this?

Prof. Pillania – There are many ways to measure happiness. The method I used was to first go to people in different parts of India and ask them what makes them happy. Accordingly, I identified 5 factors. There were five factors – work and related things, physical and mental health, relationship with friends and relatives, social service, spirituality and religion. In our country and in other countries also, people consider spirituality and religion as one thing, while both are different things. So first five things were recognized then a scale was used. Cantrill Ladder is a famous scale. In this, people have to number between zero to ten. We ask them how are you feeling right now. Give a rating of zero if you feel bad and 10 if you feel better. When everyone’s rating is obtained, then the score is derived from it. This is quite famous. The same scale is used in the World Happiness Report. 

Neha Tripathi – According to these five factors you mentioned, as much as I was reading the report and understood, different states are at number 1 according to different factors. In some factors, Mizoram is at No. 1. Similarly, in some places I read that Assam is at No. 1 as far as work factor is concerned. Apart from this, when it comes to relations, Mizoram is at number 1. Talking about philanthropy, Ladakh is at number 1. If we talk about health, then Andaman and Nicobar continent is at number 1. So different factors have been talked about in different cities. Is there any study about the person or only about the state, like can tell about the happiest man with the help of this scale?

Prof. Pillania – It depends on what you want to do. Our aim was to rank the states and union territories. Along with this there is also one more thing that this study is the first study and when it was done, it was the time of Covid. So right now we would need at least three-four years of data. After that we will be able to say with more confidence that this ranking is correct.

Neha Tripathi – In this 16,950 people have participated. So as India has such a large population… So if we consider this as a sample size, then how accurate do you think the data is ? How many accurate results can be obtained from such a small sample size?

Prof. Pillania – When there is a very large sample, it has the number 398, close to 400, so that you can speak with 95% confidence and there is a 0.5% chance of error. It is believed all over the world. So this sample size is correct. This is the correct sample size for the assessment to be done. And no sample size is perfect, every sample size has its problems, it must have been there too. My theory states that the five factors we have identified, according to my research…we have to look at these five factors in such a way that we have to invest some things in it – time, energy and money. Happiness is free. Just like we invest in stocks, we should also invest time and energy as well. 

Neha Tripathi – Thank you so much for sharing this information with us. I hope that the way India Happiness Report keeps coming in future, it will give us better results about at what age we can be the happiest. Thank you very much. 

Prof. Pillania – Thanks

Another important question that comes to mind is that If being happy be taught? Various types of happiness courses are going on in the country and abroad regarding this… and there is no age restriction for admission in these courses…

The happiness course of Harvard University is famous all over the world… The legacy of Harvard is such that its scientists started a research study during the Great Depression of 1938… This is the longest research study in the world which is still going on… This Harvard Study of Adult Development, which has been running for more than eighty years, started a study on 268 staff members of Harvard… later their wives and children were also included… The results say that all the factors affecting happiness are interconnected…

Similarly, many efforts are being made in India too… There is a course in Gujarat University… with the help of which it is taught to be happy, that too in just six months… Vedas and Upanishads are taught in this course… as well as dance, music laughter , food, speech therapy and many more are included in the course… Similarly, there is a School of Happiness in the Center of Ethics and Virtues of Ramanujan College in Delhi University…

There is a happiness curriculum in the government schools of Delhi… Although this curriculum is for children but it also has an effect on adults… that is, indirectly with the help of it, people of every age group learn to balance between life and happiness. Let us know from Dr. Rajesh Kumar, the former chairman of the Happiness Curriculum Core Committee, that how to teach the secrets of being happy ? 

Neha Tripathi – Hello Dr Rajesh…Welcome… What is happiness ? What is your perspective of happiness ? If we can start our conversation from this point… 

Dr. Rajesh – What is happiness? We have tried to explain this through the happiness curriculum. In this we have been able to identify three types of happiness. See, happiness is that which comes from sensory organs. This is a very important point. Sensory organ brings happiness, even a small child knows that if I eat food, it will be fun. I will enjoy watching the film. It would be nice if I put some nice fragrance. If you like it, you will be happy. I will be happy if I listen to music. Happiness comes from sensory organs, there is no problem in it. There is another kind of happiness which is slightly above the sensory organ… beyond it… The happiness which we receive from the relationships. So here we have to bring some attention somewhere. Now there is no need to teach that happiness comes from sensory organs. But we have to understand that attention has to be brought to the relationships which gives happiness and that too the deeper one. It is deep and somewhere there is long retention which comes from emotions, like a mother with the child and the child in the mother’s lap. Just like there is a relation of husband and wife… there is relation of brother and sister… there is relation between friends… and one even beyond is happiness which is very deep… Third kind of happiness is to be goal oriented. We make a goal at one place… and to achieve that goal, we also forget about relationships. We also forget about sensory organs. A child has made a goal that I want to become an IAS and is engaged in preparing for it… He is preparing for his paper… His paper is tomorrow… Tomorrow his goal is going to be achieved… Now ask him if the son will eat food, he will say Whether I don’t want food… and mom also doesn’t want her… goal has become so important for her… so when we want to achieve a goal… So there’s no problem.

Neha Tripathi – Can being happy really be taught? Whatever kind of curriculum or the kind of things you tell or explain to children… In this way, parents also talk to children, explaining to them throughout the day that this should be done, this should not be done. If you do this then you will like it… if you do this then you will be called a good child… this is what we also try to teach. So, if we say such things to the children, then in class they will understand and learn to be happy? 

Dr Rajesh – There is no book for children in the Happiness curriculum, which is implemented by the Delhi government for the students. We are using four paedogogy in which there are stories, activities, mindfulness, etc… Mindfulness here means paying attention… not meditating… If we are eating food then pay attention to food…we are listening music then pay attention to then song… If we are walking then focus on walking… For example we are walking with eyes open but attention is not on the pit on the road. So you will fall in the pit. Then what is the use of the eyes? In the same way, when we narrate a story… but story telling is not important in this paedagogy… After that story a question is asked which is called the point of discussion or the point of concern. On that every child reflects from the past experience of his life… This is the reflection, it will not learn from the speaking of a teacher… This one student who is doing peer group learning from another student, that is very important. For example, story of Ram and Sita is narrated to the child, and after narrating the story we ask him, have you ever seen a moment in your life when you have sacrificed for your father? Tell any one such incident. So he contemplates and thinks that I have never done anything like this in my life. So we say that, we will ask you this question again after three days. Now he will come somewhere and then try to give that reflection. So unless he brings practical in life he is not able to speak. And very important, a question in front of us was that we should teach the children but from whom should we get them educated? Who should teach the teachers? For this, we thought a lot… discussed very philosophically, so I want to share with you a very important thing. I will ask you questions and try to find the answer. There is a Hindi MA pass among the teachers teaching Hindi. And the child who is there is starting to study Hindi, then who will teach Hindi to whom? So the one who is more educated will teach the less educated. So who has the task of teaching Hindi? It’s the teacher. Maths will flow from the teacher to the child. Now if I ask about happiness but who is more happy? child or teacher?

Neha Tripathi – The child is more happy, away from worldliness.

Dr Rajesh – Who will teach whom? So, this pedagogy is different. Now when we launch the happiness curriculum, who will teach whom?

Neha Tripathi – The child will teach the teachers… 

Dr Rajesh – But how will the child teach? So the pedagogy of this curriculum is very focused. For five minutes the teacher narrates the same story that we keep in his class and then floats a question which we have discussed with the teacher. It’s just the role of a facilitator that the teacher has to play… So happiness is not taught… You asked a question in the middle that can happiness be taught ? I want to say we are not teaching at all. 

Neha Tripathi – What result have you got so far? What kind of success have you got from this happiness curriculum?

Dr Rajesh – Its biggest reflection is getting that happiness is coming in the life of teachers from children. They are reflecting… they are coming back. Children changed their parents… Children changed their teachers… Children became brand ambassadors of happiness because they had happiness and from there happiness started coming in reverse direction.

Neha Tripathi – Many many best wishes to you… that you take this to more and more people and it will reflect back in our own lives, it is my belief. Thank you so much…

Dr. Rajesh – Thank you… Thank you…

Children are being taught to be happy and children are teaching their elders to be happy… Madhya Pradesh government has a Happiness Department… Its job is to track the happiness quotient of the public… That means, it is related to the measure of happiness of the people… 

The course is ready to teach even the judiciary to be happy… this is the age when you have achieved a lot in your life… In such a situation, what does happiness mean ? Kartik Dave, Dean of School of Business, Public Policy and Social Entrepreneurship is associated with this project…

Kartik Dave, dean of the School of Business, Public Policy and Social Entrepreneurship (SBPPSE)

Neha Tripathi – Hello Dr Dave, Welcome to the show… 

Karthik Dave – Hello… 

Neha Tripathi – There is a programme being developed for the people on judiciary which focuses on how to be happy… What kind of program is being developed? What is special about it? How will you teach them to be happy?

Karthik Dave – Right now the whole base in this curriculum is self reflection… You have to think continuously that what do I want? Do I want to live in conflict or do I want to live in harmony with nature and myself? The more we will know this thing and accept it… acceptance is very important… the more you learn to accept, the more you will be happy… then any event, accident will happen… then you will feel that this is a part of the larger system and I have to accept that… Then you will not be distracted, then you will be happy. The focus is on our self in the first module that we teach, on ourselves… In this course we tell you, how you can define your own identity, your own aspirations. Then what is your perception of happiness and then we talk about giving the right perception. Then your own mind will tell what are the health requirements of your body and how you are able to solve the day to day problems in your family. So in that we tell you to sit with your family for one hour in the evening… talk… understand your problems, explain and understand their problems… keep a white board in the house… write all your problems, think about it creatively… think on it… Do the brainstorming… Problems will be solved… A family will be formed in which the program of conflict minimization will run… because we will sit together in the evening, everyone will tell their problems… We remain unhappy because we do not share many times… so that too becomes a problem… The second is how to maintain human relations… like I just told that friends, family, peer group, colleagues… we tell them all this in the second module… and most important whether you understand justice or not… Justice is very important… If you understand justice then you will not do wrong to anyone? Good Justice has a huge role… Good justice has a concept, they explain it to everyone… it is not just a matter of judiciary…

Neha Tripathi – Because everyone should know how to do justice… be it the relationships at home… or the official relations… or the relationships in the world… Do you see any relation of age with happiness? At what age can one be the happiest?

Karthik Dave – Age… I think if you nurture it properly in the formative stage, then the person will understand how to be in sync with nature… Understand they ill effects of pollution… and judge what wrong is being done by him… Then he will not do it… He will understand that this relationship is so deep that for my happiness it is very important to take care and also for my mother, my family, my society and my nature should be in harmony with me… If this is not the case… then my happiness will also be disturbed… And, he will never do any thing wrong… 

Neha Tripathi – You are right.

Karthik Dave – This is what we have understood… and this is what we have learned in this program too… Now we have developed this program in English… But if I tell you in simple terms, we have named it Transformative Learning… So The program which is a Happiness curriculum is a complete Transformative learning… You have to see things from another point of view and understand from another point of view… So most of the things we are doing in this are that you should have critical thinking… You should have reflective thinking … you be with yourself… Engaging with self… We have created a course… that you give time to yourself too… what do you want… what are you… what do you have to do in life… what are the broader objectives of your life? If we start thinking about all these things and start explaining it, then people will feel that I have not come to fight and quarrel… I have a big role… I have come to maintain the harmony…

Neha Tripathi – Coexistence, which will bring your acceptance and that will bring harmony in your life… This is the key to happiness… 

Karthik Dave – And that is your path to sustainable happiness.

Neha Tripathi – Absolutely… Thank you so much Dr. Dave.

One thing to understand from all the conversations is Happiness is inversely proportional to all the influencing factors… From personal experience, midlife is the best time to be happy… Life expectancy in India is about 70 years… so between 35-40 when you have successfully achieved some factors associated with happiness, then it can be the best time of your life… rest depends on you… 

I hope this conversation has added something new to your life… Do let me know how you feel about this episode of SipSci Vocal on Happiness… Watch this podcast on morning or evening walks… or while you are driving… cooking in the kitchen… sitting in the park… traveling in the metro… or taking a short break from work… you can listen to us anytime, anywhere… This podcast is in Hinglish… read its Hindi and English transcript on http://www.nehascope.com And if you want to see the whole conversation, you can also watch it on SipSci’s YouTube channel… All the important information is in the description… You can give your feedback through the comments… If you subscribe to the podcast and and share it with your family and friends… then this small effort for science will get the courage to move forward. 

Hindi Transcript

Hello and Welcome to SipSci Vocal… कभी Global, कभी Local… मैं हूं इस शो की होस्ट नेहा त्रिपाठी… और आज मैं आपके लिए ये लेकर आई हूँ… 

Different types of Laughter Audio  

हंसने की इन आवाज़ों को सुनकर आपके चेहरे पर भी मुस्कान ज़रूर आई होगी… और अगर नहीं आई है तो जल्दी से एक मुस्कान ले आइए क्योंकि आज बात होगी सिर्फ हंसी और खुशी की… तो चलिए इस बातचीत की शुरुआत करते हैं मशहूर गीतकार साहिर लुधियानवी जी की लिखी इन पंक्तियों के साथ… 

ग़म और खुशी में फर्क न महसूस हो जहां… 

मैं दिल को उस मुक़ाम पे लाता चला गया… 

मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया… 

हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया… 

बेहतरीन बात कही है… क्या आपको ये मुक़ाम हासिल करने का रास्ता पता है? एक रास्ता गुरु नानक जी ने बताया है। गुरु नानक कहते हैं हुकुम रजाई चलना, नानक लिखिया नाल…  

ये सूत्र बताता है कि जो जीवन की धारा है… जो हो रहा है उसमें ईश्वर की मर्ज़ी देखनी चाहिए और उससे रज़ामंदी जतानी चाहिए… इस सूत्र का अर्थ ये नहीं है कि जो हो रहा है वो होने दें और आप कुछ न करें… यानी हाथ पर हाथ धरे बैठे रहना नहीं है… इसका मतलब है कि तमाम कोशिशों से जो नतीजे पैदा होते हैं, वो आपके मन के न भी हो तो भी आप उनमें अपने लिए एक रज़ामंदी ढूँढ लेते हैं… यानी उसका हुक्म मेरा जीवन… 

यहाँ मुझे महाभारत का यक्ष-युधिष्ठिर संवाद भी याद आ रहा है… कहा जाता है यक्ष ने युधिष्ठिर से सौ से भी ज़्यादा प्रश्न पूछे थे… उनमें से एक प्रश्न था – सुखी कौन है ? तो युधिष्ठिर ने जवाब दिया – जो ऋणी नहीं है वो सुखी है। अब ऋणी तो हम सभी हैं… क्यों ? EMI नहीं देनी होती है… और EMI का मतलब तो ऋण ही हुआ न… तो क्या हम सुखी नहीं हैं ? हम खुश नहीं हैं ? 

Anurag mimicry audio 

Dialogue 1 : आज मेरे पास बिल्डिंग है, प्रॉपर्टी है, बैंक बैलेंस है, बंगला है, गाड़ी है, माता-पिता हैं, भाई-बहन हैं, दोस्त-रिश्तेदार हैं… क्या है तुम्हारे पास ? 

Dialogue 2 : मेरे पास ख़ुशी तो है… लेकिन EMI भी है… 

फ़िल्म दीवार का ये मशहूर डायलॉग तो याद होगा आपको… हमने इसे थोड़ा twist दिया है… यहां समझने वाली बात ये है कि ख़ुशी बहुत सारे factors पर निर्भर करती है और खुशी का लेवल इनके हिसाब से घटता-बढ़ता रहता है… 

जब मैंने घर में अपने इस podcast का ज़िक्र किया और अपने पिताजी से सुख और खुशी के बारे में जानना चाहा तो उन्होंने मुझे ये मूलमंत्र दिया… 

पहला सुख निरोगी काया… 

दूजा सुख घर में हो माया… 

तीजा सुख कुलवंती नारी… 

चौथा सुख सुत आज्ञाकारी… 

मतलब जीवन का पहला सुख है अच्छा स्वास्थ्य… 

दूसरा सुख है धन सम्पन्नता… 

तीसरा सुख है अच्छी पत्नी… 

और चौथा सुख है आज्ञाकारी संतान… 

आदर्श सुखमय जीवन को परिभाषित करने का ये सिर्फ एक एंगल है… 

खैर… जब खुशी के बारे में इंटरनेट खंगालने की कोशिश की… तो कई तरह के रिसर्च मिले… एक रिसर्च के मुताबिक़ बच्चे जब तक स्कूल न जाने लगे, तब तक सबसे ज़्यादा खुश रहते हैं… दूसरा रिसर्च कहता है कि साठ साल से ज़्यादा उम्र के लोग सबसे ज़्यादा खुश रहते हैं… और कुछ शोध के मुताबिक़ 36 से 40 साल के आस-पास की उम्र में इंसान सबसे ज्यादा खुश रहता है। ये वो दौर होता है जब आप अपने जीवन में बहुत कुछ पा लेते हैं… और अपने आगे के जीवन की प्लानिंग करते हुए संतुष्ट न भी हो, व्याकुल नहीं होते हैं… 

इस मामले में एक U shaped Curve भी बहुत पॉपुलर है… जो बताता है कि अट्ठारह या उससे पहले की उम्र में आप खुश होते हैं… फिर ये ख़ुशी कम होने लगती है और 45-50 के आस-पास जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, चीजें बेहतर होती जाती हैं… But conditions apply… 

यहां psychologists से बात करना ज़रूरी है… तो आइए बात करते हैं डॉ मंजू मेहता से, जो All India Institute of Medical Sciences में clinical pscyhologist रह चुकी हैं… और डॉ कमलेश सिंह से… जो Indian Institute of Technology, IIT, Delhi के Department Of Humanities And Social Sciences में Psychology की Professor हैं… दोनों हमें ख़ुशी और उम्र के कनेक्शन को समझने में मदद करेंगी… ये भी बताएँगी कि आख़िर दिल की ख़ुशी, दिमाग़ की ख़ुशी से अलग कैसे होती है? और विज्ञान की नज़र से हमारे खुश रहने के पीछे क्या है? 

नेहात्रिपाठीनमस्कार डॉ मंजू, बहुत बहुत स्वागत है आपका। 

डॉमंजूधन्यवाद 

नेहात्रिपाठीनमस्कार डॉ कमलेश, आपका भी बहुत-बहुत स्वागत है। 

डॉकमलेशनमस्कार, धन्यवाद 

नेहात्रिपाठीआज हम ख़ुशी को लेकर बात करने बैठे हैं, तो सबसे पहले तो आप दोनों मनोविज्ञान की विशेषज्ञ हैं… बहुत सारी रिसर्च, बहुत सारे केस आपने देखे होंगे। ख़ुशी क्या है, अगर आप ये हमारे दर्शकों को बता सकें। डॉ मंजू, आपसे शुरु करेंगे। 

डॉमंजूमेहतामैं कहती हूँ कि ख़ुशी बहुत ज़रूरी है ज़िंदगी में। क्योंकि अगर ख़ुशी नहीं होती है तो उनको डिप्रेशन हो जाता है। लोग डिप्रेशन महसूस करते हैं। ख़ुशी का मतलब ये है कि ज़िंदगी में अपने से खुश होना और संतुष्ट होना। और उसके बाद में ये सोचना कि जो भी हूँ मैं अच्छी हूँ। 

नेहात्रिपाठीबिल्कुल सही कहा आपने। कमलेश जी, आप कैसे देखती है इसको ? 

डॉकमलेशजब हम ख़ुशी की बात करते हैं न, और इस विषय पर जो मनोवैज्ञानिक रिसर्च हुए हैं, उसकी मदद से हम इसे तीन हिस्सों में बाँटते हैं तो बढ़िया से समझ आता है। जो विदेशी विद्वान हैं उन्होंने, सकारात्मक भावनाएँ, जिस भी माहौल में आप हैं उस पर आपकी पूरी पकड़ है, जो भी आपको करना हैं, उसे करने के लिए आप पूरी तरह से स्वतंत्र हो और कर पा रहे हैं, ऐसे कई सारे फैक्टर्स लिए हैं जो ख़ुशी लाते हैं। जब हम एशिया की संस्कृति की बात करते हैं तो वहाँ हम ज़्यादा अंदुरुनी, आंतरिक जो हमारी भावनाएँ हैं उनके बारे में ज़्यादा सोचते हैं। जैसे कि कोमल मन… हमें क्या शांति है? हमारी जो सोच है, भावनाएँ हैं, व्यवहार हैं, उसमें समरसता है? उन चीज़ों को ज़्यादा मानते हैं। अगर आप बिल्कुल भारतीय की बात करते हैं तो आनंदमय होना, अपने आप में मग्न होना, इसे हम ख़ुशी कह सकते हैं। 

नेहात्रिपाठीडॉ मंजू, अगर मैं आपसे समझना चाहूँ कि आप, अपने अनुभव के हिसाब से किस उम्र को सबसे ज़्यादा खुश मानती हैं? 

डॉमंजूमेहता मेरे अनुभव के हिसाब से, अब तो बच्चों में डिप्रेशन होता है। पहले तो मानते नहीं थे कि बच्चों को डिप्रेशन हो सकता है। पहले यही मानते थे कि वो बहुत खुश हैं। हर चीज़ कर सकते हैं तो बहुत खुश रहते हैं। स्कूल जाने से पहले का समय बहुत अच्छा है। लेकिन आजकल देखते हैं कि वो भी बहुत परेशान रहते हैं। कभी खाने की समस्या होती है। कभी मां-बाप का प्यार नहीं मिलता है। कभी जो ध्यान वो चाहते हैं, वो नहीं मिलता। तो ये सब चीज़ें हैं। 36 से 42 की उम्र में भी बहुत सारे लोग खुश होते हैं और बहुत सारे लोग खुश नहीं भी होते हैं। ऐसे ही बुढ़ापे में भी है। सबसे ज़रूरी चीज़ हैं इंसान के व्यक्तिगत विचार हैं। अगर आप खुश हैं कि जो हो रहा है बहुत अच्छा हो रहा है, तो आपके विचार ही सबसे ज़रूरी हैं। वो बताते हैं कि आप खुश हैं या नहीं हैं। 

नेहात्रिपाठी बिल्कुल, अगर मैं आपसे पूछूँ कि आपके जीवन का सबसे ख़ुशी का दौर कौन सा था, अगर देखा जाए तो?

डॉमंजूमेहता जब जीवन में कुछ पा लेते हैं तो ख़ुशी मिलती है। तो मुझे लगता है 55 से 60 साल के बीच का समय सबसे अच्छा था। 

नेहात्रिपाठी डॉ कमलेश आप कैसे देखती हैं, कौन सी उम्र में सबसे ज़्यादा खुश रहते हैं लोग? और आपने तो तरह-तरह के रिसर्च भी किए हैं इस विषय पर, तो आपके रिसर्च क्या कहते हैं और निजी रूप से आप क्या सोचती हैं ? 

डॉकमलेश देखो नेहा जैसे अभी डॉ मंजू ने भी बोला कि आपकी अपनी विशेषताएँ हैं, जिस पर बहुत कुछ निर्भर करता है। लेकिन इसके बावजूद और इसलिए हम एक ही उम्र में अगर आप अलग-अलग लोगों को टेस्ट करेंगे तो सब का ख़ुशी का लेवल अलग-अलग मिलेगा। अगर उनके हालात कुछ हद तक एक जैसे हों तब भी। फिर भी ये काफ़ी दिलचस्प है समझना कि कौन सी उम्र में आप सबसे ज़्यादा खुश रहते हैं। ये सवाल मैं अपनी क्लास में भी पूछती हूँ। और बच्चे बहुत बार बोलते हैं कि जब हम मस्ती से खेला करते थे। जब हम पर कोई बोझ नहीं था। वो दौर सबसे अच्छा था। इस मुद्दे पर रिसर्च पर बात करें तो दूसरी जगहों से आई रिसर्च में और हमने भी अपनी तीन-चार रिसर्च में प्रारंभिक किशोरावस्था और किशोरावस्था को पार करने वाले बच्चों की तुलना की है। जिसमें 13-15 साल और 16 से 18 साल के बच्चों की तुलना की है। और हमने ये पाया कि उम्र के बढ़ने के साथ-साथ उम्र की ख़ुशहाली घटती जा रही है। इसका कारण ये लगता है मुझे कि जैसे जैसे उम्र बढ़ रही है, वैसे वैसे और ज़्यादा तनाव मिल रहा है उन्हें, और ज़्यादा तनाव पैदा करने वाली चीज़ें आ रही हैं ज़िंदगी में, इसलिए शायद ऐसा है। फिर हमने जब कॉलेज के छात्रों पर रिसर्च किया तो ये पाया गया कि जो पहले साल में जो ख़ुशी का लेवल था, वो गिरना शुरु हुआ और फिर उनको वो वाला लेवल नहीं मिल पाया। तो यहाँ हमें लगता है कि शायद तनाव धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है। जब हम पूरे जीवन की बात करते हैं तो जैसा आपने भी बोला कि चालीस से पचास साल की उम्र में तुलना में कम होती है। इसे हम U या Dip कहते हैं, इसके लिए हम ये टर्म इस्तेमाल करते हैं – middle life dip. और वहाँ कहते हैं कि चालीस-पचास की उम्र में कम था, और शुरुआत में हम ज़्यादा खुश थे और बाद में जाकर हम फिर ज़्यादा खुश हो गए क्योंकि आपको करने को बहुत ज़्यादा नहीं है चीज़ें और आप कम तनाव से मिल रहे हैं अपने जीवन में। लेकिन जब तुमने विषय दिया और मैं पढ़ रही थी तो अभी मैंने एक डॉ मेहता का इसी साल का एक रिसर्च है, और उन्होंने कहा कि 36 के आस-पास की जो उम्र है, वो सबसे खुशी की होती है। और उन्होंने कारण भी दिए, लोगों ने क्या-क्या इसके कारण दिए हैं। जैसे उन्होंने बताया कि ये वो दौर है जहां पर आपने सब सुलझा लिया है। ये वो दौर है जहां आपके जीवन में थोड़ी सामंजस्य है। यहाँ आपके दोस्त भी जो आपको चाहिए वही वाला है। और आप थोड़ा और ज़्यादा विवेकशील होने लगे हैं। तो आख़िरी स्टेज पर जब हम कहते हैं कि साठ-सत्तर की उम्र पर जब ख़ुशहाली ज़्यादा मापी जाती है, उसकी भी यही वजह है कि आपने अपने जीवन की मुश्किलें हल करना सीख लिया है। और आप अब ज़्यादा विवेकशील हैं। 

डॉमंजूमेहता मैं एक चीज़ कहना चाहती हूँ कि जैसे उम्र बढ़ती है न, सत्तर साल के आस-पास के होते हैं तो उसके साथ बीमारियाँ भी आती हैं और उसके साथ दर्द भी बढते हैं तो ख़ुशी कहां से होगी। और बहुत सारे लोग तो वैसे ही डरते रहते हैं कि कल क्या होगा? कल कौन सी बीमारी आ जाएगी? वो ज़िंदा भी रहेंगे या नहीं? 

नेहात्रिपाठी अगर विज्ञान की नज़र से देखें डॉ मंजू, अगर आप हमें बता सकें कि जैसे hormonal changes का भी जैसे बहुत ज़्यादा रोल होता है आपकी ख़ुशी में, अगर हम उम्र के अलावा बात करें तो और क्या से hormones का भी उम्र से कोई रिश्ता होता है? 

डॉमंजूमेहताDopamine hormone बहुत ज़रूरी है। ये रिलीज़ होगा तभी हम खुश रहेंगे। जैसे कि हमारे दिमाग़ में एक केंद्र है rewarded punishment का। तो उस पर भी dopamine का असर होता है। और ये रिलीज़ कैसे होता है, जैसे अगर आप exercise करें, आप छोटे-छोटे काम में ख़ुशी महसूस करें, आप ये मत सोचिए कि आपको अपने काम पूरे करने हैं as a routine, बल्कि उसमे खुशी ज़ाहिर करें। 

नेहात्रिपाठीGender का भी खुश रहने से, खुश होने से कोई लेना-देना देखती हैं आप? 

डॉकमलेशउसके लिए भी ऐसे ही है जैसे उम्र को लेकर अलग-अलग स्टडी, अलग-अलग बातें होती हैं, ठीक वैसे ही gender के लिए है। आप बहुत आसानी से विरोधी नतीजे देख सकती हैं। लेकिन कौन किस मुद्दे को ज़्यादा तवज्जो देता है ख़ुशी के लिए वो थोड़ा सा एक फैक्टर रहता है।  जैसे socio-political factor मर्दों के लिए, और औरतों के लिए ज़्यादा शादी से जुड़े या परिवार से जुड़े मसले रहते हैं। सुरक्षा बहुत बड़ा मुद्दा रहता है, जब हमने लड़कियों पर रिसर्च किया था तो सुरक्षा बड़ा मुद्दा था। 

नेहात्रिपाठीबिल्कुल, इन सब चीज़ों का बैलेंस होना बहुत ज़रूरी है, तभी आप खुश रह पाएँगे। आख़िर में आप दोनों से कुछ टिप्स चाहूंगी क्योंकि कहा जाता है कि दिल से खुश रहेंगे तो ख़ुशी महसूस होती है, ख़ुशी अच्छी लगती है। तो ये जो बांवरा मन होता है उसे कैसे ख़ुश रखा जाए, डॉ मंजू अगर आप हमें कुछ टिप्स दे दें। 

डॉमंजूमेहता आप gender की बात कर रही थी, तो औरतें जो हैं वो बहुत sensitive होती हैं। तो पहला टिप यही है कि मस्तमौला रहो, छोटी-छोटी बातों को नज़रअंदाज़ करो, तभी खुशी मिलेगी। और दूसरे चीज़ जो है अपने विचारों को बदलो। और तीसरी चीज़ जो है कि अपनो को थोड़ा activities में शामिल करो, जिससे कि आपको लगे कि कुछ कर रहे हो। 

नेहात्रिपाठी डॉ कमलेश, आपको क्या लगता है कि बांवरे मन को कैसे खुश रखा जाए? 

डॉकमलेश मैं डॉ मंजू से बिल्कुल सहमत हूँ। और इसके साथ-साथ जैसे योग, मेडिटेशन… जो अपने आप एक तरह से सबसे बड़ी चीज़ है, वो होनी चाहिए, क्योंकि physical exercise आपको हर उम्र में चाहिए।

नेहात्रिपाठी आप दोनों की विशेषज्ञों का बहुत-बहुत शुक्रिया इस शो में जुड़ने के लिए और हमें जानकारियाँ देने के लिए। बहुत बहुत धन्यवाद, डॉ मंजू, डॉ कमलेश… आप दोनों का ही शुक्रिया… 

डॉकमलेश धन्यवाद 

डॉमंजूमेहता धन्यवाद 

उम्र के साथ-साथ और भी कई factors होते हैं जिन्हें consider किया जाता है… और जब बहुत सारे factors को ध्यान में रख कर happiness की बात की जाती है तो बनती है World Happiness Report… 149 देशों की इस लिस्ट में Finland दुनिया का सबसे खुश देश है… और भारत का नंबर एक सौ उनतालीसवां है… 

एशिया की बात करें तो खुश देशों की लिस्ट में भूटान नंबर 1 पर है… भूटान की life expectancy 72.17 साल से ज़्यादा है… ये पहला ऐसा देश है जिसने Gross National Product के साथ-साथ Gross Happiness Product की बात कही… जिसके मुताबिक विकास की बात सिर्फ आर्थिक न हो बल्कि गैर आर्थिक विषयों को भी इसमें बराबरी से शामिल किया जाए। 

खुशी को मापने के वैसे तो कई तरीके हैं लेकिन एक आसान तरीका है Cantril Ladder… ये एक ऐसा device है जो अपने नाम को सार्थक करते हुए एक सीढ़ी बनाता है जिस पर 0 से 10 तक नंबर होते हैं… इनमें 0 सबसे कम और 10 सबसे ज़्यादा होता है… फिर रिसर्च में शामिल होने वाले लोगों को सवाल के जवाब में नंबर देने होते हैं… और तब पता चलता है कि जीवन में, देश में, दुनिया में… खुशी का क्या हाल है… 

इसी cantril ladder की मदद से बनी एक ख़ास रिपोर्ट के बारे में बताते हैं… ये रिपोर्ट Made in India है और इसका नाम है India Happiness Report 2020… यहाँ ख़ुशी से जुड़े पाँच ज़रूरी factors पर रिसर्च किया गया है… जिसमें से एक उम्र है… ये अपनी तरह की पहली कोशिश है… और इसे करने वाली टीम को लीड करते हैं प्रोफ़ेसर राजेश के पिल्लानिया… आइए उनसे ही जानते हैं कि ये रिपोर्ट उम्र और ख़ुशी के कनेक्शन के बारे में क्या ख़ास बात कहती है? 

नेहात्रिपाठीनमस्कार प्रोफ़ेसर पिल्लानिया, बहुत बहुत स्वागत है आपका… 

प्रो. पिल्लानियानमस्कार, धन्यवाद 

नेहात्रिपाठीIndia Happiness Report 2020, इसमें हम अगर ये समझना चाहें कि इसमें अगर किसी तरह का फैक्टर हो या किसी तरह की ऐसी बात हो जिससे पता चले कि कौन सी उम्र में इंसान जो है वो सबसे ज़्यादा खुश रहता है? 

प्रो. पिल्लानियाहमारी जो स्टडी थी इसमें उम्र एक फ़ैक्टर था। हम लोगों ने जो पाया इस स्टडी में वो ये कि जो टीनेजर्स हैं, वो खुश थे और जो चालीस से ज़्यादा उम्र के लोग हैं, वो खुश हैं। तो उम्र के साथ ख़ुशी बढ़ रही थी। लेकिन कॉलेज जाने वाले छात्र और कामकाजी लोग इतने खुश नहीं थे। इसका सीधा लेना-देना कोविड से रहा क्योंकि इसकी वजह से काम का नुक़सान हो रहा था। ये सर्वे पिछले साल जुलाई से सितंबर के बीच में किया गया था। 

नेहात्रिपाठीहाँ, कुछ लोगों की नौकरी जा रही थी। कुछ लोग घर से काम करके खुश नहीं थे। तो इस लिहाज़ से भी हो सकता है लेकिन ये ख़ुशी को मापा कैसे जाता है? मापने का तरीक़ा क्या होता है? आपने ये कैसे किया होगा? 

प्रो. पिल्लानियाख़ुशी को मापने के कई तरीक़े हैं। जो तरीक़ा मैंने इस्तेमाल किया वो ये कि पहले भारत के अलग-अलग हिस्से में लोगों के पास गया और उनसे पूछा कि उन्हें कौन सी बात ख़ुशी देती है? इसके हिसाब से मैंने 5 फैक्टर्स की पहचान की। पाँच फ़ैक्टर थे – पहला काम और उससे जुड़ी चीज़ें, दूसरा था शारीरिक और मानसिक सेहत, तीसरा था दोस्तों और रिश्तेदारों से सम्बन्ध,  चौथा था समाज सेवा, पाँचवा था आध्यात्मिकता और धर्म। हमारे देश में और बाक़ी देशों में भी आध्यात्मिकता और धर्म को लोग एक ही चीज़ समझते हैं, जबकि दोनों अलग-अलग चीज़ें हैं। तो पहले पाँच चीज़ें पहचानी गईं फिर एक स्केल का इस्तेमाल किया गया। Cantrill Ladder एक मशहूर स्केल है। इसमें ज़ीरो से दस के बीच लोगों को नंबर देना होता है। हम लोग उनसे पूछते हैं कि आप इस समय कैसा महसूस कर रहे हैं। अगर ख़राब महसूस कर रहे हैं तो ज़ीरो की तरफ़ और अगर अच्छा महसूस कर रहे हैं तो दस की तरह रेटिंग दें। सभी की रेटिंग आ जाती है तो उससे स्कोर निकाला जाता है। ये काफ़ी मशहूर है। वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट में भी यही स्केल इस्तेमाल की जाती है। 

नेहात्रिपाठीआपने जो ये पाँच फ़ैक्टर्स बताएँ, इन सब के हिसाब से जितना मैं रिपोर्ट को पढ़ रही थी और समझ पाई, अलग अलग राज्य अलग अलग फ़ैक्टर के हिसाब से नंबर 1 पर हैं। किसी में मिज़ोरम नंबर 1 पर है जैसे कुछ जगह मैंने पढ़ा काम काज वाले फ़ैक्टर में असम नंबर 1 पर था। इसके अलावा सम्बन्धों की बात करें तो मिज़ोरम नंबर 1 पर है। लोकोपकार की बात करें तो लद्दाख नंबर 1 पर है। अगर सेहत की बात करें तो अंडमान एंड निकोबार महाद्वीप नंबर 1 पर है। तो अलग-अलग फैक्टर से अलग-
अलग शहरों की बात की गई है। व्यक्ति को लेकर भी कोई स्टडी है या सिर्फ़ राज्य को लेकर ही है जैसे सबसे खुश आदमी के बारे में भी बता सकते हैं इस स्केल की मदद से? 

प्रो. पिल्लानियाये निर्भर करता है कि आप करना क्या चाहते हैं। हमारा मक़सद था कि हमें राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को रैंक करें। साथ में एक चीज़ और भी है कि ये जो स्टडी है, ये पहली स्टडी है और ये जब की गई है, उस समय कोविड का समय था। तो अभी हमें कम से कम तीन-चार साल का डाटा चाहिए होगा। उसके बाद हम और विश्वास के साथ कह पाएँगे कि ये रैंकिंग सही है। 

नेहात्रिपाठी इसमें आपने, अभी मैं देख रही थी कि 16,950 लोगों ने भाग लिया है। तो जैसे इतनी बड़ी जनसंख्या है भारत की… तो अगर हम इसको एक सैम्पल साइज़ मानें, तो कितना सटीक आप मानते हैं, इतने छोटे सैम्पल साइज़ से कितने सटीक नतीजे मिल सकते हैं? 

प्रोपिल्लानियाजब बहुत बड़ा सैम्पल होता है, तो उसमें चार सौ के क़रीब, 398 नंबर है, जिससे आप 95% विश्वास के साथ बोल सकते हैं और 0.5% error का चांस रहता है। ये दुनिया भर में माना जाता है। तो ये जो सैम्पल साइज़ है, वो सही है। जो आँकलन करना होता है, उसके लिए ये सही सैम्पल साइज़ है। और कोई भी सैम्पल साइज़ बिल्कुल सटीक नहीं होता है, हर सैम्पल साइज़ में समस्या होती है, इसमें भी रही होगी।मेरी जो थ्योरी है वो बताती है कि जो पाँच फैक्टर्स हमने पहचाने हैं, मेरी रिसर्च के हिसाब से… इन पाँचों फैक्टर्स को हमें ऐसे देखना होगा कि हमें इसमें कुछ चीज़ें निवेश करनी हैं – समय, ऊर्जा और पैसा। ख़ुशी तो मुफ़्त है। जैसे हम स्टॉक्स में निवेश करते हैं, ऐसे ही हमें समय और ऊर्जा भी निवेश करना चाहिए। 

नेहात्रिपाठीबहुत-बहुत धन्यवाद आपका हमारे साथ ये जानकारियाँ साझा करने के लिए। मुझे उम्मीद है कि जिस तरह से India Happiness Report भविष्य में आती रहेंगी, इससे हमें और ज़्यादा बेहतर नतीजे मिलेंगे, जानकारियां मिलेंगी कि किस उम्र में सबसे ज़्यादा खुश रहा जा सकता है। बहुत-बहुत धन्यवाद आपका। 

प्रो. पिल्लानिया– धन्यवाद 

एक और ज़रूरी सवाल जो मन में आता है वो ये कि क्या खुश रहना सिखाया जा सकता है? इसे लेकर देश-विदेश में तरह तरह के happiness course चल रहे हैं… और इन courses में admission के लिए उम्र की कोई बंदिश नहीं है… 

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी का happiness course दुनिया भर में मशहूर है… Harvard की legacy ऐसी है कि यहां के वैज्ञानिकों ने 1938 के Great Depression के दौर में एक रिसर्च स्टडी शुरु की थी… ये दुनिया की सबसे लंबी रिसर्च स्टडी है जो अभी भी चल रही है… अस्सी सालों से भी ज़्यादा समय से चल रहे इस Harvard Study of Adult Development ने Harvard के ही 268 लोगों पर स्टडी शुरु की थी… बाद में उनकी पत्नियों और बच्चों को भी शामिल किया जाता गया… रिज़ल्ट्स कहते हैं कि खुशी पर असर डालने वाले सारे factors interconnected है… 

इसी तरह भारत में भी कई कोशिशें का जा रही हैं… गुजरात यूनिवर्सिटी में एक कोर्स है… जिसकी मदद से खुश रहना सिखाया जाता है वो भी सिर्फ़ छ महीने में… इसमें वेदों और उपनिषदों का पाठ कराया जाता है… साथ ही डांस, म्यूज़िक laughter, food, speech therapy और भी बहुत कुछ होती है… ऐसे ही दिल्ली यूनिवर्सिटी में रामानुजन कॉलेज के Centre of Ethics and Virtues में स्कूल ऑफ हैप्पीनेस है…  

दिल्ली के सरकारी स्कूलों में happiness curriculum है… वैसे तो ये  curriculum बच्चों के लिए है लेकिन इसका असर बड़ों पर भी होता है… यानी indirectly इसकी मदद से हर उम्र में जीवन और खुशी के बीच तारतम्य बनाना सिखाया जाता है। आइए Happiness Curriculum Core Committee के former chairman डॉ राजेश कुमार जीसे जानते हैं कि खुश रहना कैसे सिखाया जाता है ? 

नेहात्रिपाठी नमस्कार डॉ राजेश… स्वागत है आपका… खुश रहना होता क्या है… आपका क्या perspective है खुशी को लेकर… अगर यहाँ से बातचीत शुरु करें… 

डॉराजेश ख़ुशी है क्या? इसको हमने happiness curriculum के माध्यम से समझाने का प्रयास किया है। इसमें तीन प्रकार की happiness को हम identify कर पाए हैं। देखिए, एक खुशी वो होती है जो sensory organs से मिलती है। ये बहुत ही important point है। Sensory organ से happiness मिलती है ये छोटे बच्चे को भी पता है कि अगर मैं खाना खाऊँगा तो मज़ा आएगा। मैं फ़िल्म देखूँगा तो मज़ा आएगा। मैं कोई अच्छा सा सुगंध लगाऊँगा तो अच्छा लगेगा। अच्छा लगेगा तो ख़ुशी होगी। संगीत सुनूँगा तो खुशी होगी। Sensory organs से happiness मिलती है इसमें कोई दिक़्क़त नहीं है। दूसरी तरह के ख़ुशी है जो sensory organ से थोड़ी ऊपर है… beyond है… The happiness which we receive from the relationships. तो यहाँ पर हम लोगों को कहीं एक attention लाना पड़ेगा। अब ये sensory organ से happiness मिलती है ये पढ़ाने की ज़रूरत नहीं है। लेकिन ये हमें कहीं टार्गेट लेकर आना पड़ा है… attention लानी पड़ती है relationships में जो happiness है that is the deeper one. गहरी है और कहीं long retention है जो कि emotions से मिलती है। जो एक माँ को बच्चे के साथ और बच्चे को माँ की गोदी में मिलती है। जैसे पति-पत्नी का relation है… भाई-बहन का relation है… दोस्तों के बीच का relation है… और एक इससे भी beyond happiness है जो कि बहुत गहरी है… जो कि third kind of happiness है which is goal oriented. हम एक जगह पर एक गोल बना लेते हैं… और उस goal को प्राप्त करने के लिए हम relationships को भी भूल जाते हैं। हम sensory organs को भी भूल जाते हैं। एक बच्चे ने goal बना लिया कि मुझे IAS बनना है और उसकी तैयारी में लगा हुआ है… उसके पेपर की तैयारी में लगा है… उसका कल पेपर है… कल उसका goal achieve होने वाला है… अब उससे पूछिए कि बेटा खाना खाएगा, वो कहेगा कि नहीं चाहिए खाना… और मम्मी भी नहीं चाहिए उसको… उसके लिए goal इतना ज़रूरी हो गया है… तो जब हम किसी लक्ष्य को पा लेना चाहते  हैं… और जिसका लक्ष्य ही खुशी होगा… और उसको पाने की अगर हम उसको समझा पाएं तो फिर तो कोई दिक्कत ही नहीं है। 

नेहात्रिपाठी क्या खुश रहना सच में सिखाया जा सकता है ? जिस तरह का curriculum या जिस तरह की बातें आप बच्चों को बताते हैं या समझाते हैं… ऐसे तो माता-पिता भी बच्चों से बात करते हैं, उन्हें दिन भर समझाते हैं कि ये करना चाहिए, ये नहीं करना चाहिए। ऐसा करो तो आपको अच्छा लगेगा… ऐसा करो तो आपको अच्छा बच्चा बोला जाएगा… ये तो हम भी सिखाने की कोशिश करते हैं। तो क्या इस तरह की बातें हम बच्चों को अगर हम बोलें तो क्लास में तो इससे वो समझ जाएँगे और खुश रहना सीख जाएँगे ? 

डॉराजेश Happiness curriculum जो विद्यार्थियों के लिए दिल्ली सरकार में लागू हुआ है, उसके अंदर बच्चों के लिए कोई किताब नहीं है। उनको केवल हम एक कहानी का, गतिविधि का, चार paedogogy जिसमें इस्तेमाल हो रही हैं वो कहानी है, mindfulness है… करने वाले कार्यक्रम हैं… Mindfulness है ध्यान देना… ध्यान करना नहीं है… किसी के ध्यान में रहने वाली बात नहीं है। हम खाना खा रहे हैं तो खाने की तरफ़ ध्यान दें… हम गाना खा रहे हैं तो गाने की तरफ़ ध्यान दें… हम चल रहे हैं तो चलने की तरफ़ ध्यान दें… आँख खोल कर चल रहे हैं पर ध्यान गड्ढे में नहीं है और ध्यान कहीं और है और गड्ढे में गिर जाओगे तो आपकी इन आँखों का फ़ायदा क्या। इसी तरीक़े से कहानी का जब हम विधान शुरु करते हैं तो हम कहानी सुनाते हैं… लेकिन कहानी सुनाना इस paedagogy में important नहीं है… उस कहानी के बाद एक प्रश्न पूछा जाता है जिसे चर्चा का बिंदू या चिंता का बिंदू कहा जाता है। उस पर हर बच्चा अपने जीवन के past से reflect करता है… ये जो reflection है ये किसी teacher के बोलने से नहीं सीखेगा… ये जो एक विद्यार्थी दूसरे विद्यार्थी से peer group learning कर रहा है, that is very important. जब हम उसको कहते हैं कि राम और सीता की कहानी उसको सुनाई गई, और कहानी सुनाने के बाद हम उससे पूछते हैं कि क्या आपने अपने जीवन में कभी कोई ऐसा क्षण देखा है जब आपने त्याग किया हो अपने पिता के लिए? कोई भी ऐसी एक घटना सुनाओ। तो वो चिंतन करता है और सोचता है कि मैंने तो अपने जीवन में कभी कुछ ऐसा किया नहीं। तो हमने बोला कि हम ये सवाल आपको तीन दिन के बाद फिर पूछेंगे। अब वो कहीं करके आएगा और फिर उस reflection को देने की कोशिश करेगा। तो जब तक वो जीवन में practical लाता नहीं है वो बोल नहीं पाता है। और बहुत ज़रूरी हमारे सामने एक सवाल था कि बच्चों को तो हम पढ़ाए लेकिन पढ़वाएँ किससे? उन टीचर्स को किससे पढ़वाएँ? इसके लिए हम लोगों ने बहुत चिंतन किया… बहुत philosophically discuss किया तो मैं आपके साथ एक बहुत ज़रूरी बात share करना चाह रहा हूं कि आप बताओ मुझे, मैं आपसे सवाल जवाब में ही ये बात निकालूंगा कि हिन्दी पढ़ाने वाले टीचर्स में एक हिन्दी MA पास होता है और बच्चा जो है वो हिन्दी पढ़ना शुरु कर रहा है तो हिन्दी कौन किसको पढ़ाएगा ? तो जो ज़्यादा पढ़ा हुआ है वो कम पढ़े हुए को पढ़ाएगा। तो हिन्दी पढ़ाने का कार्यभार किसके पास है, टीचर के पास। Maths टीचर से बच्चे के पास flow करेगा। अब मैं happiness पर अगर ये सवाल करता हूँ कि happy कौन ज़्यादा है ? बच्चा या टीचर ? 

नेहात्रिपाठी बच्चा ज़्यादा खुश है, दुनियादारी से दूर है। 

डॉराजेश कौन किसको पढ़ाएगा ? So, this pedagogy is different. अब happiness curriculum को जब हम launch करेंगे तो कौन पढ़ाएगा किसको? 

नेहात्रिपाठी बच्चा पढ़ाएगा टीचर्स को… 

डॉराजेश लेकिन बच्चा कैसे पढ़ाएगा ? तो इस curriculum का जो pedagogy है वो बहुत ही focussed है। पांच मिनट टीचर उसी स्टोरी को जो हम उनकी क्लास में रखते हैं वो वहाँ narrate करता है और उसके बाद एक सवाल को, जो हमने ही उनके साथ discuss किया है, उसको float कर देता है। बस इतना रोल है। Facilitator को रोल अदा करना है… तो happiness को पढ़ाया नहीं है… आपने एक सवाल बीच में भी पूछा था कि पढ़ाया जा सकता है, हम पढ़ा ही नहीं रहे हैं। 

नेहात्रिपाठी इसका क्या रिज़ल्ट अभी तक आपको मिल पाया है? किस तरह की success आपको इस happiness curriculum से मिली है? 

डॉराजेश इसका सबसे बड़ा reflection ये मिल रहा है कि बच्चों से टीचर्स के जीवन में happiness आ रही है। वो reflect हो रहे हैं… वो वापस आ रहे हैं। बच्चों ने अपने माता-पिता को बदला… बच्चों ने अपने टीचर्स को बदला… बच्चे brand ambassador बने happiness के क्योंकि उनके पास happiness थी और वहां से happiness उल्टे, reverse direction में आनी शुरु हुई। 

नेहात्रिपाठी ढेर सारी शुभकामनाएँ आपको… कि आप इसको और अच्छे से ज़्यादा लोगों तक पहुँचाए और ये reflect वापस हमारे ही जीवन में होगा ऐसा मेरा विश्वास है। Thank you so much… 

डॉराजेश धन्यवाद… धन्यवाद… 

बच्चों को खुश रहना सिखाया जा रहा है और बच्चे अपने बड़ों को खुश रहना सिखा रहे हैं… मध्य प्रदेश सरकार के पास तो एक आनंद विभाग है यानी Happiness Department… इसका काम है जनता के happiness quotient को track करना… यानी ये लोगों की खुशी का ख्याल रखता है… 

यहाँ तक कि न्यायपालिका को भी खुश रहना सिखाने के लिए कोर्स तैयार है… ये वो उम्र है जब आपने अपने जीवन में बहुत कुछ पा लिया है… ऐसे में खुशी का क्या मतलब है, इसके बारे में बता रहे हैं Kartik Dave, जो School of Business, Public Policy and Social Entrepreneurship के dean हैं और इस प्रोजेक्ट के साथ जुड़े हुए हैं… 

Kartik Dave, dean of the School of Business, Public Policy and Social Entrepreneurship (SBPPSE) 

नेहात्रिपाठी नमस्कार डॉ दवे, बहुत-बहुत स्वागत है आपका… 

कार्तिकदवे नमस्कार… 

नेहात्रिपाठीJudiciary में खुश रहना सिखाने के लिए ये जो आप curriculum develop कर रहे हैं… जिस तरह का ये प्रोग्राम develop किया जा रहा है… क्या खास बात है इसकी ? कैसे सिखाएंगे आप खुश रहना ? 

कार्तिकदवेअभी इस curriculum में पूरा जो base है वो है self reflection… आपको continuously सोचना है कि मैं क्या चाहता हूं ? मैं conflict में रहना चाहता हूं या मैं nature और खुद के साथ harmony में रहना चाहता हूं? जितना हम इस चीज़ को जानेंगे, accept करेंगे… acceptance बहुत ज़रूरी है… जितना आप accept रहना सीखेंगे उतना आप खुश रहेंगे… फिर कोई भी घटना होगी, दुर्घटना होगी… तो आपको लगेगा कि ये larger system का पार्ट है और मुझे उसको स्वीकार करना है। तब आप विचलित नहीं होंगे, तब आप खुश रहेंगे। फ़ोकस है हमारा वो first module जो हम पढ़ाते हैं उसमें self पर है खुद पर… इसमें हम बताते हैं कि आप खुद की identity, खुद की aspirations को कैसे define करते हैं। फिर आप perception क्या है happiness का और फिर हम सही perception देने की बात करते हैं। फिर आपकी ख़ुद की, आपके मन की… आपकी body की health की क्या requirements हैं और आप day to day problems को कैसे solve कर पाते हैं अपने परिवार में। तो उसमें हम ये बताते हैं कि शाम को एक घंटा आप अपने परिवार के साथ बैठें… बातें करें… समझें अपनी problem, उनकी problem समझाएं… एक white board घर में रखें… सब अपनी समस्याएं लिखें, उसको creatively ढंग से सोचें… उस पर विचार करें, मंथन करें… समस्याएं अपने आप solve हो जाएंगी। एक परिवार ऐसा बनेगा जिसमें conflict minimisation का प्रोग्राम चलेगा… क्योंकि शाम को साथ बैठेंगे, सब अपनी अपनी समस्याएं बताएंगे। हम लोग दुखी रहते हैं क्योंकि हम शेयर नहीं करते हैं कई बार… इसलिए वो भी problem हो जाती है। दूसरा है कि human relations कैसे maintain करना है… जैसे मैंने अभी बताया कि friends, family, peer group, colleagues… ये सब हम उनको second module में ये सब बताते हैं… और सबसे ज़्यादा ज़रूरी है कि आप न्याय को समझते हैं या नहीं… न्याय बहुत ज़रूरी है… न्याय अगर आप समझ जाएंगे तो आप किसी के साथ गलत नहीं करेंगे? Good Justice का बहुत बड़ा रोल है… Good justice का concept है वो सभी को समझाते हैं… वो सिर्फ judiciary की बात नहीं है… 

नेहात्रिपाठीक्योंकि न्याय करना सभी को आना चाहिए… चाहे वो घर के रिश्ते हों… ऑफिस के रिश्ते हों… दुनिया के रिश्ते हों… उम्र का ख़ुशी से कोई रिश्ता देखते हैं आप ? कौन सी उम्र में सबसे ज़्यादा खुश रहा जा सकता है ? 

कार्तिकदवेउम्र का… मेरे ख़्याल से अगर आप सही तरीक़े से nutrture करें इसको जो formative stage में तो उसको इतना समझ में आ जाएगा कि जो मैं प्रकृति के साथ खिलवाड़ करता हूं… प्रदूषण की बात करता हूं… या मैं जो गलत काम करता हूं… वो करेगा ही नहीं… उसको समझ में आ जाएगा कि ये रिश्ता इतना गहरा है कि मेरी खुशी के लिए मेरी मां का, मेरे परिवार का, मेरे समाज का और मेरी प्रकृति का मेरे साथ तारतम्य होना बहुत ज़रूरी है… अगर वो नहीं हुआ तो मेरी खुशी भी disturb हो जाएगी। वो कभी ग़लत काम करेगा ही नहीं। 

नेहात्रिपाठीसही कह रहे हैं आप। 

कार्तिकदवेये जो चीज़ हमें समझ में आ गई… और यही हमने इस प्रोग्राम में भी सीखा है… अभी ये प्रोग्राम हमने अंग्रेज़ी में develop किया है… लेकिन अगर मैं आपको simple में बताऊं तो इसका नाम ही हमने रखा है Transformative Learning… So, Happiness curriculum जो प्रोग्राम है वो पूरा Transformative learning है… आपको चीज़ों को दूसरे नज़रिए से देखना है और दूसरे नज़रिए से समझना है… तो इसमें जो हम करा रहे हैं उसमें ज़्यादातर चीज़ें हैं कि आपको critical thinking आना चाहिए… आपको reflective thinking आना चाहिए… आपको खुद के साथ… Engaging with self एक कोर्स बनाया है हमने… कि आप खुद को भी वक्त दीजिए… कि आप क्या चाहते हैं… आप क्या हैं…  आपको क्या करना है ज़िंदगी में… आपकी जिंदगी के broader objectives क्या हैं ? ये सब चीज़ें अगर हम सोचना शुरु करें और इसको समझाना शुरु करेंगे तो लोगों को लगेगा कि मैं लड़ने झगड़ने के लिए नहीं आया हूँ… मेरा एक बहुत बड़ा रोल है… उसकी harmony को ही maintain करने आया हूं… 

नेहात्रिपाठीCoexistence, जिससे आपका acceptance आएगा और उसी से आपके जीवन में harmony आएगी… This is the key to happiness… जो आप समझा रहे हैं… 

कार्तिकदवेऔर वही आपका sustainable happiness का मार्ग है। 

नेहात्रिपाठीबिल्कुल… Thank you so much Dr Dave.

सारी बातचीत से एक बात समझने वाली है… ख़ुशी जितनी ज़्यादा बातों पर निर्भर करेगी उतना ही कम होती जाएगी… Happiness is inversely proportional to all the influencing factors… Personal experience से तो midlife is best time to be happy… भारत में life expectancy 69.96 years यानीलगभग 70 साल है… तो 35-40 के बीच जब आप खुश रहने के कुछ factors successfully achieve कर लेते हैं तो ये आपके जीवन का best time हो सकता है… बाकी तो आप पर निर्भर करता है…

मुझे उम्मीद है कि इस बातचीत ने आपके जीवन में कुछ नया जोड़ा होगा… खुशी के बारे में SipSci Vocal का ये एपिसोड आपको कैसा लगा मुझे ज़रूर बताइएगा… इस podcast को आप गाड़ी चलाते हुए… किचन में खाना बनाते हुए… morning या evening walks पर… पार्क में बैठे हुए… मेट्रो में सफर करते हुए… या फिर काम से एक छोटा सा ब्रेक लेकर… आप कभी भी, कहीं भी हमें सुन सकते हैं… ये podcast Hinglish में है… इसकी हिन्दी और अंग्रेज़ी transcript nehascope.com पर आप पढ़ सकते हैं… और अगर आप इस पूरी बातचीत को देखना चाहें तो SipSci के यूट्यूब चैनल पर देख भी सकते हैं… सारी ज़रूरी जानकारियां description में है… आप कमेंट्स के ज़रिए अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं… इस पॉडकास्ट को सब्सक्राइब के साथ साथ शेयर करेंगे तो विज्ञान के लिए इस छोटे से प्रयास को आगे बढ़ने का हौसला मिलेगा।  

%d bloggers like this: