Events History

28 March : Identity changed by name, not fame

Identity is a big issue, be it a human being or a thing or a place. This time it is for the two cities of Turkey. One of these is the capital city of Turkey. Why this was done and how ?

Angora = Ankara

Constantinople = Istanbul 

Almost 9 decades ago, the names of these two cities of Turkey was changed.

On this day in 1930, a law was enacted in Turkey, according to which the city of Constantinople was renamed Istanbul and the city of of Angora was renamed Ankara.

These are the two largest cities of turkey. And Ankara being the capital of Turkey.

This was a revolutionary step to change the names of the cities. The credit goes to the founder of Turkey – Mustafa Kamal Ataturk. Although geographical names have been formally changed in Turkey, their native names persist and continue in local dialects throughout the country.At times, Turkish politicians have also used the native names of cities during their speeches.

#Hindi
कहा जाता है कि नाम में क्या रखा है… लेकिन देखा जाए तो नाम में ही सब कुछ रखा है… नाम से आपकी पहचान जुड़ी है… नाम से आपका अस्तित्व जुड़ा है… और फिर अचानक वही नाम बदल दिया जाए, तो कैसा लगेगा…
आज का दिन दो बड़े और जाने-माने शहरों के लिए खास रहा क्योंकि उनके बरसों पुराने नाम बदल दिए गए… वर्ष 1930 में आज ही के दिन तुर्की के दो बड़े शहरों का नाम बदल दिया गया था। वैसे आज हम इन शहरों को इनके नए नाम से ही जानते हैं और वही अपने लगते हैं… लेकिन असल में वो इनके असली नाम नहीं हैं… तुर्की की राजधानी ‘अंगोरा’ को ‘अंकारा’ और Constantinople (कॉन्सटैन्टिपोल) का नाम बदलकर Istanbul रख दिया गया था। Turkey के इन दो सबसे बड़े शहरों का नाम बदलना एक क्रांतिकारी कदम था और इसे आधुनिक दौर के लिए ज़रूरी माना गया था। इसका श्रेय आधुनिक Turkey के संस्थापक मुस्तफ़ा कमाल अतातुर्क को दिया जाता है।

%d bloggers like this: